इण्डियन नेशनल कमेटी - आई.यू.सी.एन.



इण्डियन नेशनल कमेटी (आई.यू.सी.एन.) के सदस्यों का एक फोरम है। इस औपचारिक मान्यता आईयूसीएन परिषद द्वारा 14 नवम्बर 2001 में द्वारा आई.यू.सी.एन. मुख्यालय पत्र संख्या आई.एन/4/एन.सी. 55 द्वारा प्रदान की गई। इस कमेटी को यह शासनादेश मिला है कि यह आई.यू.सी.एन. के सदस्यांे के कार्य कलापों का समन्वय करे ताकि प्रकृति के संरक्षण में एक आम राय बने तथा एक पहुंच हो सके। इस कमेटी के सदस्य अपने साथ प्रकृति के संरक्षण में प्राप्त की गई विशेषज्ञता तथा अपना ज्ञान भी लाते हैं, जिससे यह फोरम एकत्रित बुद्धिमता के आधार पर प्रकृति के तथा प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के विषयों पर कार्य करता है।

वर्तमान में इस कमेटी के 29 सदस्य हैं, जो भारत सरकार, वैज्ञानिक संस्थानों तथा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय गैर सरकारी संस्थानों द्वारा नामांकित किये गये हैं। इस कमेटी में, नीति निर्धारण योजना, वन्यजीव प्रवर्तन दबाव, प्रबंधन, वैज्ञानिक अनुसंधान, जो कि कार्मिक प्राकृतिक संसाधन के प्रबंधन में, आपदा प्रबंधन, शहरी भूमिदृश्यों के प्रबंधन तथा जीविकापार्जन के क्षेत्रों में कार्यरत है, पर उनकी क्षमता वृद्धि आदि करने संबंधी विशेषज्ञता का प्रतिनिधित्व किया गया है।

आईयूसीएन के भारतीय संस्थान, इण्डिया नेशनल कमेटी - आईयूसीएन जैसी सदस्य संस्था को संरक्षण के वैश्विक कार्यक्रमों मंे तथा आईयूसीएन के अन्य कार्यक्रमों में आगे बढ़ाने में सहायता प्रदान करती है।

हम साथ मिलकर सीबीडी/कोप-10 में नागोया, जापान में अपनाये गये निर्धारित पांच लक्ष्यों की पूर्ति की ओर अग्रसर है।